Saturday, May 20, 2006

क्या हम सुधरेंगे?

पहले मूर्तियों का दूध पीना, मछली चिकित्सा के लिये कतार लगाना, फिर
एक ज्योतिषी का खुद की मृत्यु की घोषणा करना और तमाम लोगों का उस खबर का सीधा प्रसारण देखना..
और अब 'एक चम्मच चमत्कारी पानी'...

क्या हम सुधरेंगे?

3 टिप्पणियां:

Pratik 5/21/2006 02:44:00 AM  

आपके प्रश्न का उत्तर नारद खोलते ही मिल गया। जब यह नया हिन्दी चिट्ठा देखा - http://tonetotke.wordpress.com/

Manish 5/21/2006 03:44:00 AM  

Murti ko doodh peete to humne bhi dekha tha wo bhi tab jab hum engg college Roorki mein the! Aur sach maniye surface tension ki theory batane wale bhi wahan confused ho gaye the :)

anyway jab zindagi mein lakh pair pataskne pe bhio kuch hota na dikhai de waise log hi aise jhanson mein zaldi aa jate hain.
Ye mansikta tabhi khatma ho payegi jab aam janta apni roz roz ki lachariyon aur bebasi se bahar nikal paye.

रत्ना 5/21/2006 06:02:00 AM  

बहुत जल्दी । मंज़िल की ओर बड़ रहे है।

  © Blogger template 'Solitude' by Ourblogtemplates.com 2008 Customized by Nitin Vyas

Back to TOP